Type Here to Get Search Results !

GK Full Form in Hindi: जानिए GK को हिंदी में क्या कहते है? - Sagar Research Center

0
WhatsApp ChannelJoin Now
Telegram GroupJoin Now

GK Full Form in Hindi : जानिए GK को हिंदी में क्या कहा जाता है? - Sagar Research Center 


GK को हिंदी में क्या कहते है? : - 

GK को हिंदी में "जनरल नॉलेज" कहा जाता है। जीके शब्द दो अंग्रेजी शब्दों, "General Knowledge," की संक्षेप से मिलकर बनता है। यह एक व्यापक शब्द है जो हमें विश्व के विभिन्न क्षेत्रों के बारे में ज्ञान प्रदान करता है।

GK Full Form in Hindi: जानिए GK को हिंदी में क्या कहते है?

"General Knowledge" (सामान्य ज्ञान) एक व्यक्ति की आम ज्ञान, सृजनात्मकता और साक्षरता की स्तर को मापने और समझने के लिए उपयोग होता है। यह ज्ञान विभिन्न विषयों जैसे कि इतिहास, भूगोल, विज्ञान, साहित्य, कला, सामाजिक मुद्दे, व्यापारिक और आर्थिक परिप्रेक्ष्य, खेल, राजनीति आदि से संबंधित होता है।


सामान्य ज्ञान का थोड़ा सा ज्ञान व्यक्ति को अपने आस-पास की दुनिया को समझने और उसके पास होने वाली तज़ा जानकारी से जुड़े रहने में मदद करता है। यह व्यक्ति के व्यक्तिगत और पेशेवर विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और उसे विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं और समय-समय पर आने वाली ज्ञान संबंधित प्रश्नों का सही उत्तर देने में मदद करता है।

GK Full Form in Hindi | GK फुल फॉर्म हिंदी में : - 

GK Full Form in English

General Knowledge

GK का फुल फॉर्म हिंदी में

सामान्य ज्ञान

GK का पूरा नाम "जनरल नॉलेज" होता है, जो हिंदी में "सामान्य ज्ञान" कहलाता है। यह शब्द ऐसी जानकारी को दर्शाता है जो सभी क्षेत्रों और विषयों पर आधारित होती है। सामान्य ज्ञान बढ़िया संसाधन है जो हमें विश्व के बारे में जागरूक रखने और विभिन्न परीक्षाओं के लिए तैयारी करने में सहायता करता है।


जानिए जीके का महत्व क्या है?

सामान्य ज्ञान हमें दुनिया के हर हिस्से से जुड़े रहने और अपडेट रहने में मदद करता है । इसके अलावा, यह सकारात्मक सामाजिक प्रभाव डालने की हमारी क्षमता में सहायता करता है। यह जीवन के महत्वपूर्ण निर्णय लेने और करियर विकल्पों पर निर्णय लेने में भी सहायता करता है।

GK Full Form in Hindi: जानिए GK को हिंदी में क्या कहते है?

सामान्य ज्ञान हमें विभिन्न क्षेत्रों जैसे विज्ञान, इतिहास, भूगोल, साहित्य, संगणित आदि में जानकारी प्रदान करता है। सामान्य ज्ञान हमारे व्यक्तिगत विकास, सामाजिक चरित्र और सामरिक परीक्षाओं में मदद करता है। यह हमें जगत की गतिविधियों से अवगत रहने के लिए अत्यंत आवश्यक है।


जानिए सामान्य ज्ञान क्यों महत्वपूर्ण है?

सामान्य ज्ञान हम सभी के समझ को बढ़ाती है, और आपको ज्ञानवर्धक बनाती है। इससे आप बातचीत में अधिक आत्मविश्वास महसूस कर सकते हैं, और नई जानकारी सीखने में सक्षम हो सकते हैं। विभिन्न विषयों पर आपकी जानकारी आपको एक बहुप्रतिभावान व्यक्तित्व बनाती है, और आपके निर्णय लेने की क्षमता को भी बढ़ाती है।

जनरल नॉलेज की तैयारी कैसे करें?

  • अच्छी तैयारी के लिए आपको रोज न्यूज़ पेपर पढ़ना होगा
  • NCERT की किताब पढना
  • पढ़ने का टाइम टेबल सेट करें
  • पढ़ी हुई चीज़ों को रिवाइज़ करते रहिए
  • बुक्स पढ़ना शुरू करें
  • GK से जुड़े हुए सवालों के जवाब देते रहिए।

FAQs For GK : - 

Q. GK का पूरा नाम क्या है?
Ans - "GK" का फुल फॉर्म "General Knowledge" होता है। यह विविध जानकारी का संग्रह होता है, जो व्यक्ति के आस-पास की दुनिया और विभिन्न क्षेत्रों के महत्वपूर्ण तथ्यों को शामिल करता है।

Q. GK का आविष्कारक कौन है?
Ans - सामान्य ज्ञान (जीके) विभिन्न विषयों पर जानकारी के लिए एक सामूहिक शब्द है। इसका एक भी आविष्कारक नहीं है, बल्कि यह मानव अन्वेषण, खोज और शिक्षा के माध्यम से समय के साथ विकसित होता है।

Q. GK कितने प्रकार के होते हैं?
Ans - किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में सामान्य जागरूकता को एक उच्च स्कोरिंग अनुभाग माना जाता है। इसमें दो मुख्य भाग शामिल हैं, करंट अफेयर्स जीके और स्टेटिक जीके।

Q. परीक्षा में जीके प्रश्न क्यों पूछे जाते हैं?
Ans - परीक्षा में जीके प्रश्न इसलिए पूछते है, क्योंकि जीके का सेक्शन किसी भी परीक्षा में बेहतर अंक दिलाने में मदद करते हैं। केवल करंट अफेयर्स ही नहीं बल्कि साइंस, भूगोल, अर्थशास्त्र आदि विषय भी जनरल नॉलेज का ही भाग हैं। जिन परीक्षार्थियों का जीके मजबूत होता है, उन्हें अन्य उम्मीदवारों की तुलना में अधिक मार्क्स मिलते हैं।

Q. भारत में GK के संस्थापक कौन है?
Ans - जीके के पिता डॉ. भारती कृष्ण तिलक हैं। जीके के संस्थापक स्वामी वाग्भटानंद थे। भारत में 1853 में पहली बार एग्जाम करवाया गया था। ये एग्जाम सिविल सर्वेंट को चुनने के लिए हुआ था। वहीं, मौर्य काल में 313 बीसी में कौटिल्य अर्थशास्त्र को चाणक्य या विष्णुगुप्त में से किसी एक द्वारा लिखा गया। कौटिल्य अर्थशास्त्र पहला ऐसा ज्ञात ग्रंथ है, जिसने लोक सेवक भर्ती के लिए नियम बनाए थे।

Post a Comment

0 Comments

Header Ads

Below Post Ad